भारत के राष्ट्रीय त्योहार पर निबंध

भारत के राष्ट्रीय त्योहार पर निबंध | Hamare Rashtriya Tyohar In Hindi Essay

हमारे राष्ट्रीय त्योहार :

भारत के राष्ट्रीय त्योहार पर निबंध | Hamare Rashtriya Tyohar In Hindi Essay
Hamare Rashtriya Tyohar In Hindi Essay

भारत बहुत प्राचीन राष्ट्र है | ब्रिटिश शासन से मुक्त होने और स्वतंत्र भारत का नया संविधान बनने के बाद राष्ट्रीयता को नई व्याख्या और ताजगी मिली है | स्वतंत्र भारत में हम अपने परंपरागत धार्मिक तथा सामाजिक त्योहारों के साथ-साथ अपने राष्ट्रीय त्योहारों को भी बहुत उत्साह से मनाते हैं |

ये राष्ट्रीय पव्र समस्त भारतीय जन-मानस को एकता के सूत्र में पिरोते हैं | ये उन अमर शहीदों व देशभक्तों व देशभक्ततों का स्मरण कराते हैं जिन्होंने देश की स्वतंत्रता के लिए जीवन पर्यंत संघर्ष किया और राष्ट्रों की स्वतंत्रता, गौरव व इसकी प्रतिष्ठा को बनाए रखने के लिए अपने प्राणों को भी सहर्ष न्यौछावर कर दिया |

हमारी राष्ट्रीय त्योहारों का संबंध उन महत्त्व घटनाओं और व्यक्तियों से है जो भारत की स्वतंत्रता और प्रगति से जुउ़े हुए हैं | स्वतंत्रता दिवस हर वर्ष अगस्त माह की पंद्रहवीं तिथि को मनाया जाता है | १५ अगस्त, १९४७ की तिथि भिी भारतवासियों के लिए अत्यांत महत्वपूर्ण है क्योंकि इसी दिन शताब्दियों लंबे अंग्रेजी दासत्व के बाद हमारा देश स्वतंत्र हुआ था ट इस दिन सत्ता की बागडारे हमने स्वयं सँभाली थी और ऐतिहासिक लाल किले पर भारत का तिरंगा झंडा फहराया था | २६ जनवरी, १९५० को हमारा देश सार्वीभौमत्व गाणतंत्र घोषित हुआ | इस दिन की स्मृति में हम प्रतिवर्ष २६ जनवरी को ‘गणतंत्र दिवस’ के रूप में मनाते हैं | हम गांधी जयंती, टिळक जयंती, बाल दिन (नेहरू जयंती ), शहीद दिन आदि को भी राष्ट्रीय स्तर पर मानाते हैं |

राष्ट्रीय त्योहारों के दिन प्राय:सार्वजनिक छुट्टी रहती है | स्वातंत्रय-दिन तथा गणतंत्र दिवस पर गाँव-गाँव और नगर-नगर में ध्वजवंदन के कार्यक्रम किए जाते हैं | १५ अगस्त की प्रभात वेला में राजधानी दिल्ली में प्रधानमंत्री लाल किले पर तिरंगा फहराते हैं और राष्ट्र को संबोधित करते हैं | २६ जनवरी की पूर्वसंध्या पर राष्ट्र के नाम राष्ट्रपती का संदेश प्रसारित किया जाता है | इस दिन दल्ली में सांस्कृतिक झाँकियाँ देखने लायक हैं | गांधी जयंती पर चरखा कातने के कार्यक्रमों तथा प्रार्थनाओं का बच्चों के लिए विशेष कार्यक्रम होते हैं |

राष्ट्रीय त्योहार जनता के लिए प्रेरणा-स्त्रोत हाते हैं | इनसे राष्ट्र में एकता और अखंडताकी भावना दृढं होती है, लोगों को स्वदेशाभिमान और स्वदेश प्रेम की शिक्षा मिलती है | पूरा राष्ट्र एकता के रंग में रंग जाता है | महान देशभक्तों, राष्ट्रसेवकों एवं बालिदानियों की गौंरवगाथाएँ हमारे राष्ट्रप्रेम को पुष्ट करती हैं |

• Best Good Morning Images For Whatsapp

आज स्वतंत्र भारत की जनता अनेक समस्याओं से घिरी हुई है, परंतु उसे भारत उसका है और वह भारत की है | हमें ये नहीं भूलना चाहिए कि राष्ट्र का सच्चा स्वरूप तो साधारण जनता ही है | इसलिए हमारे राष्ट्रीय समारोहों में जनता का हृदय से शामिल होना जरूरी है | इसलिए राष्ट्र के जन-जन को राष्ट्रीय त्योहार अंत:करणपूर्वक मानाने चाहिए | 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *