रक्षाबंधन पर निबंध

रक्षाबंधन पर निबंध / Raksha Bandhan Essay In Hindi

रक्षा बंधन : 

रक्षाबंधन पर निबंध Raksha Bandhan Essay In Hindi
Raksha Bandhan Essay In Hindi

भारत त्योहारों का देश है यहां सालभर बहुत सारे त्योहार मनाए जाते हैं जिका अपना-अपना विशेष महत्व है | रक्षा बंधन का त्योहार भी भारत के प्रमुख त्योहारों में से एक गिना जाता है | यह त्योहार भाई – बहन के अटूट प्रेम का त्योहार है | 

रक्षा बंधन का त्योहार श्रावण पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है | यह त्योहार पूरे भारत में बड़े ही उल्लास के साथ मनाया जाता है | यह त्योहार पूरे भारत में बड़े ही उल्लास के साथ मनाया जाता है |

भगवान विष्णु ने वामन अवतार धारण कर राजा बलि अभिमान इसी दि उतारा था| इसलिए यह त्योहार ‘बलेव’ नाम से भी प्रसिध्द है | महाराष्ट्र राज्य में यह त्योहार ‘नारियल पूर्णिमा’ या ‘श्रावणी’ के नाम से मानाया जाता है | इस दिन ब्राह्मण नदी या समुद्र के तट पर जाकर अपने जनेऊ बदलते है और मल्लाह समुद्र की पूजा कर उसे नारियल चढ़ाते है | 

देवों और दानवों के युध्द में जब देवता हारने लगे, तब वे देवराज इंद्र के पास | उस समय देवराज इंद्र की पत्नी शची ने उनके हाथों में रक्षासूत्र बाँधा था | इससे देवताओं का आत्मविश्वास बढ़ा और उन्होंने दानवों पर विजय प्राप्त की | तभी से राखी बाँधने की प्रथा शुरु हुई | ऋषी-मुनियों की साधना की पूर्णहुति इसी दिन होती थी | इस उवसर पर वे राजाओं के पास जाकर उनके हाथों में रक्षासूत्र बाँधते थे | आज भी इस दिन ब्राह्मण अपने यजमानों को राखी बाँधते थे | आज भी इस दिन ब्राह्मण उपने यजमानों को राखी बाँधने जाते हैं |  

रक्षा बंधन के शुभ दिन पर बहनें अपने भाईओं की कलाई पर राख बांधती हैं और अपने भाईओं के प्रति प्रेम जाहिर करती है और उसके लिए अनेक शुभकामनाएँ करती है | भाई अपनी बहन को उपहार देता है | उस समय भाई-बहन की बचपन की अनेक यादें ताजी होती हैं | राखी का धागा भाई को बहन के प्रति अपने कर्तव्य की याद दिलाता है | सच में यह त्योहार एक भाई-बहन के पवित्र प्रेम का प्रतीक है | 

राखी के इस धागे के कारण अनेक कुरबानियाँ हुई है | चित्तौड़ की राजमाता कर्मवती ने मुगल बादशाह हुमायॅूं को राखी भेजकर अपना भाई बनाया था और उसने भी बहन कर्मवती की रक्षा की जिम्मेदारी निभाई थी |

इस प्रकार रक्षा बंधन का यह पवित्र पर्व भाई और बहन के बीच प्रेम और भाईचारा की भावना को प्रदर्शित करता है इस दिन बहने अपने भाईयों की सुख समृध्दी की कामना करती हैं | 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *